लॉक डाउन से प्रभावित पथ विक्रेताओं, रेहडी वालों को पुन: स्थापित करने संवेदनशील रहें बैंकर्स - कलेक्टर

पथ विक्रेताओं को उनकी आजीविका एवं रोजगार दोबारा शुरू करने मिलेगा किफायती पूंजीगत ऋण


गुना। कलेक्टर एस विश्वनाथन ने गुना नगर पालिक परिषद क्षेत्र के समस्त बैंकर्स से कहा है कि कोविड-19 के मद्देनजर पथ विक्रेताओं एवं रेहडी वालों के व्यवसाय प्रभावित हुए हैं। उनकी जमा पूंजी घरू खर्च में व्यय हो गई है। लॉकडाउन में ढील के उपरांत पथ विक्रताओं को उनकी आजीविका और रोजगार को दोबारा पटरी पर लाने के लिए भारत सरकार द्वारा सस्ते दर पर काम करने लायक पूंजीगत ऋण प्रदान करने कि योजना पीएम स्ट्रीट वेण्डरर आत्मा निर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) प्रारंभ की गयी है। ताकि स्ट्रीट वेंडरों के सामने आजीविका चलाने का संकट नही रहे। योजनांतर्गत प्रदेश के दो नगर पालिक परिषद गुना एवं छतरपुर नगर पालिक परिषद का चयन किया गया है। बैंकर्स जिले में योजना के क्रियान्यिवन में संवेदनशील रहें और अधिक से अधिक पथ विक्रेताओं एवं रेहडी वालों के पूंजीगत ऋण स्वीकृत करें। ताकि वे अपने जीविकोपार्जन के व्यवसाय को पुन: प्रारंभ कर स्वावलंबी बने। उन्होंने यह बात जिला कार्यालय में गुना नगरीय निकाय क्षेत्र के विभिन्न बैंकर्स की बुलाई गयी जिला स्तरीय सलाहकार समिति/समीक्षा समिति की विशेष बैठक में कही।
उन्होंनेे कहा कि प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर निधि योजना पथ विक्रेताओं और रेहडी वालों को कोविड-19 के मद्देनजर प्रभावित हुए व्यवसाय को दोबारा प्रारंभ करने संबल प्रदान करेगा। उन्होंने कहा कि छोटा पूंजीगत ऋण (10,000 रूपये) होने के कारण इसकी वापसी में कोई कठिनाई नहीं आएगी। बैंकर्स पूरी संवेदनशीलता से संबंधित हितग्राही को लाभांवित करें, पूजीगत ऋण चाहने वाले पथ विक्रेताओं और रेहडी वाले के आवेदनों को प्राथमिकता दें और उन्हें योजना के लाभ पाने के बार-बार बैंक नहीं आना पडें, यह सुनिश्चित करें। इस अवसर पर गुना नगरीय निकाय क्षेत्र के समस्त  बैंक प्रबंधकों सहित डिप्टी कलेक्टर एवं प्रभारी परियोजना अधिकारी शहरी विकास अभिकरण सोनम जैन मौजूद रहीं।

Post a Comment

0 Comments