बिना परीक्षा के पास होंगे कॉलेज के स्टूडेंट, मप्र सरकार का बड़ा फैसला

स्कूल छात्रों की तरह अब मप्र में कॉलेज छात्र भी बिना परीक्षा के पास होंगे, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार  को की घोषणा


भोपाल / कोरोना महामारी से प्रदेश सहित पूरा देश इस महामारी से संकट में है। सरकार द्वारा लगातार प्रयास किया जा रहा है कि कोरोना संक्रमण को फैलने से हर हाल में रोका जाये ऐसे में प्रदेश सरकार द्वारा पूर्व में स्कूलों में एक से ग्यारहवीं तक के छात्रों को जनरल प्रमोशन देकर पास कर  दिया था। अब मध्यप्रदेश में स्नातक प्रथम वर्ष, द्वितीय वर्ष और स्नातकोत्तर द्वितीय सेमेस्टर के परीक्षाथियों को बिना परीक्षा दिए पास कर दिया जाएगा। दरअसल, कोरोना वायरस संकट के मद्देनजर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को प्रदेश के उच्च शिक्षा एवं तकनीकी शिक्षा महाविद्यालयीन विद्यार्थियों के हित में बड़ा निर्णय लिया है। अब स्नातक प्रथम एवं द्वितीय वर्ष और स्नातकोत्तर द्वितीय सेमेस्टर के परीक्षार्थियों को बिना परीक्षा दिए उनके गत वर्ष/सेमेस्टर के अंकों/आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर अगली कक्षा/सेमेस्टर में प्रवेश दिया जाएगा।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने  कहा कि साथ ही स्नातक अंतिम वर्ष एवं स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर के परीक्षार्थियों के पूर्व वर्षों/ सेमेस्टर्स में से सर्वाधिक अंक प्राप्त परीक्षा परिणाम को प्राप्तांक मानकर अंतिम वर्ष/सेमेस्टर के परीक्षा परिणाम घोषित किये जाएंगे एवं इसमें जो  परीक्षार्थी परीक्षा देकर और सुधार करना चाहते हैं, उनके पास परीक्षा देने का विकल्प भी रहेगा। वे आगामी घोषित तिथि पर ऑफलाइन परीक्षा दे सकेंगे। मध्यप्रदेश में वर्तमान शैक्षणिक सत्र में स्नातक एवं स्नातकोत्तर स्तर पर कुल 17.77 लाख परीक्षार्थी हैं।
वहीं, चौहान मंत्रालय में कोरोना वायरस के परिप्रेक्ष्य में विश्वविद्यालयीन परीक्षाओं के संचालन तथा शालाओं को प्रांरभ करने के संबंध में बैठक ले रहे थे। बैठक में प्रदेश के मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा अनुपम राजन, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा रश्मि अरूण शमी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में शालाओं को खोलने के संबंध में  निर्णय 31 जुलाई को समीक्षा बैठक कर
लिया जाएगा।

10वीं एवं 12वीं के परिणाम जुलाई में संभावित
प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा ने बताया कि प्रदेश में 10 वीं एवं 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं सम्पन्न हो चुकी है, 10 वीं के परिणाम जुलाई के प्रथम सप्ताह में तथा 12वीं के परिणाम जुलाई के तृतीय सप्ताह में संभावित है। प्रदेश में लॉकडाउन की अवधि में रेडियो, टी.वी. एवं मोबाइल के माध्यम से शैक्षणिक गतिविधियां की जानकारी दी जायेगी।

Post a Comment

0 Comments