जिला अस्पताल में स्थापित होगा हेल्पडेस्क

व्यवस्थाओं एवं सुविधाओं की जानकारी के लिए लगेगा डिस्प्ले  बोर्ड

CLICK -  

गुना। (प्रदेश केसरी) जिला चिकित्सालय में उपचार के लिए आने वाले मरीज और उनके अटेण्डरों को जानकारी के अभाव में अनावश्यक परेशान नही हों, इस उद्देश्य से जिला अस्पताल में 24 घंटे सातों दिवस कार्यशील हेल्पडेस्क स्थापित किया जाएगा। इसी प्रकार जनसुविधा की दृष्टि से जिला चिकित्साालय में सुविधाओं और व्यवस्थाओं का डिस्प्ले बोर्ड भी लगाया जाएगा। इस हेतु कलेक्टर कुमार पुरूषोत्तम द्वारा आवश्यक निर्देश जिले में कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने उपलब्ध संसाधन एवं उपचार व्यवस्थाओं की समीक्षा बैठक के दौरान दिए गए।
इस अवसर पर उन्होंने कहा कि रेडजोन से आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को सेल्फ क्वारंटाइन होना आवश्यक होगा। यदि उसके घर में आईसोलेट होने की व्यवस्था नहीं है तो वह अपने स्वयं के व्यय से होटल में भी आईसोलेट हो सकेगा। इसके साथ ही उन्होंने सीएमएचओ को निर्देशित किया कि गुना जिला अंतर्गत रेल्वे स्टेशन पर आने वाली यात्री रेलगाडिय़ों से आने वाले यात्रियों की स्क्रीनिंग के लिए अमलों की तैनाती सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि ऐसी कोई भी ट्रेन जिससे यात्री गुना जिले में आते हैं, अनुपस्थिति नहीं रहे।
उन्होंने सार्थक एप डाउनलोड नहीं करने वाले प्रायवेट चिकित्सिकों तथा रोगी और दवा के उपभोक्ता की जानकारी सार्थक एप पर इंद्राज नहीं करने वाले दवा विक्रेताओं को अनिवार्यत: सार्थक एप डाउनलोड कराने और डाउनलोड नहीं करने तथा रोगी की जानकारी नही देने वाले संबंधित प्रायवेट चिकित्सकों के विरूद्ध एफआईआर कराने के निर्देश गुना शहर तहसीलदार को दिए। उन्होंने कहा कि किसी व्यक्ति को सर्दी, खांसी और बुखार की शिकायत है तो वह फीवर क्लीनिक में अपना उपचार कराए, का व्यापक प्रचार-प्रसार भी किया जाए। इसके साथ ही उन्होंने सार्थक एप पर प्राप्त जानकारी की नियमित मॉनिटरिंग करने एवं संबंधित रोगी से संपर्क करने, उन्हें  आयुष काढ़ा पिलाने तथा आवश्यकतानुसार सेंपल लेने के भी निर्देश दिए।
उन्होंने कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए मोबाइल मेडिकल यूनिट और रेपिड रिस्पॉरन्स टीम को आवश्यक प्रशिक्षण देने तथा संबंधित स्वास्थ्य विभाग के अमले को सक्रिय रखने के निर्देश भी दिए। इस मौके पर उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से जुडे जिले के समस्त एसडीएम, तहसीलदारों और जनपद पंचायत सीईओ को निर्देशित किया कि जिला मुख्यालय में बडी संख्या में आवेदक अपनी-अपनी समस्याओं के निराकरण के लिए आ रहे हैं। तहसीलदार एवं जनपदों के सीईओ अपने स्तर पर जन-समस्याओं एवं शिकायतों का निराकरण सुनिश्चित करें ताकि आवेदकों को अनावश्यक जिला मुख्यालय नहीं आना पड़े। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान आरोन जनपद सीईओ के अनुपस्थित रहने पर उन्होंने अप्रसन्नता व्यक्त  की तथा कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश भी दिए। इस अवसर पर एडीएम उमेश शुक्ला, सीएमएचओ, जिला चिकित्सालय में स्वास्थ्य सुविधाओं एवं सेवाओं की निगरानी करने नियुक्त नोडल अधिकारी सहित विभिन्न विभागों के कार्यालय प्रमुख मौजूद रहे।

Post a Comment

0 Comments