मध्य प्रदेश के रीवा में एशिया के सबसे बड़े सोलर पावर प्लांट का पीएम नरेंद्र मोदी ने किया उद्घाटन

रीवा के अलावा शाजापुर, नीमच और छतरपुर में भी ऐसे प्रोजेक्ट्स जारी 


CLICK -  

भोपाल / एशिया के सबसे बड़े सोलर पावर प्रोजेक्ट का प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उद्घाटन किया। मध्य प्रदेश के रीवा में स्थित 750 मेगावॉट के इस प्रोजेक्ट के जरिए सालाना 15 लाख टन कार्बन उत्सर्जन को रोका जा सकेगा।
पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि मध्य प्रदेश के रीवा में स्थित 750 मेगावॉट के इस प्रोजेक्ट के जरिए सालाना 15 लाख टन कार्बन उत्सर्जन को रोका जा सकेगा। इसके साथ ही रीवा के अलावा शाजापुर, नीमच और छतरपुर में भी ऐसे प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है। पीएम मोदी ने सोलर एनर्जी को भविष्य की जरूरत करार देते हुए कहा, ‘सोलर एनर्जी भविष्य में ऊर्जा का सबसे बड़ा माध्यम बन सकती है। आज ही नहीं 21वीं सदी के लिए भी यह ऊर्जा महत्वपूर्ण है।’ प्रधानमंत्री ने कहा कि सोलर एनर्जी सिक्योर, प्योर और स्योर है।
सोलर पावर प्रोजेक्ट के उद्घाटन में मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, केन्द्रीय मंत्री प्रहलाद पटेल समेत कई अन्य नेताओं ने भी हिस्सा लिया। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि रीवा के सोलर पावर प्लांट के जरिए न सिर्फ राज्य में बिजली की आपूर्ति होगी बल्कि दिल्ली मेट्रो को भी बिजली मिलेगी।


देश का यह पहला ऐसा सोलर प्रोजेक्ट होगा, जो राज्य के बाहर किसी संस्थान को बिजली की आपूर्ति करेगा। प्रोजेक्ट से होने वाले बिजली के कुल उत्पादन का 24 फीसदी हिस्सा दिल्ली मेट्रो को सप्लाई किया जाएगा। इसके अलावा बाकी 76 फीसदी विद्युत आपूर्ति मध्य प्रदेश की बिजली कंपनियों को की जाएगी। इस प्रोजेक्ट की स्थापना के लिए केंद्र सरकार की ओर से 138 करोड़ रुपये की रकम जारी की गई है। इस प्रोजेक्ट के तहत 250 मेगावॉट क्षमता की तीन यूनिट्स हैं। एशिया के इस सबसे बड़े सोलर पावर प्लांट्स के जरिए भारत ने कार्बन उत्सर्जन में कमी के मामले में बड़ी सफलता हासिल की है। बता दें कि भारत सरकार देश में लगातार सोलर एनर्जी को बढ़ावा देने के काम में लगी है। रीवा के पावर प्लांट्स की स्थापना के लिए महिंद्रा रीन्युएबल्स प्राइवेट लिमिटेड, एसीएमई जयपुर सोलर पावर प्राइवेट लिमिटेड और एरिनसून  क्लीन एनर्जी प्राइवेट लिमिटेड को बोली के जरिए चुना गया था।



Post a Comment

0 Comments