शासकीय भूमि पर क़ब्ज़ा हटाने की कार्रवाई भाजपा के 15 सालों में क्यों नहीं की गयी - पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह

दिग्विजय की मांग - भाजपा अध्यक्ष वीडी शर्मा द्वारा गब्बू पारधी और मेरे संबंधों की जॉंच की मॉंग का स्वागत है पर इसकी जॉंच वीडी शर्मा जी को ही सौंपी जाए


CLICK -  

भोपाल। (प्रदेश केसरी) गुना के जगनपुर चक में कॉलेज की जमीन अतिक्रमण को लेकर पुलिसकर्मियों द्वारा एक दलित दंपत्ति को पीटे जाने की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए मध्य प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने आरोप लगाया था कि इस जमीन पर अतिक्रमण कांग्रेस के कार्यकर्ता गब्बू पारदी ने किया है और वह कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह का करीबी है। श्री शर्मा ने मांग की है कि इस मामले में दिग्विजय सिंह की भूमिका की भी जांच होनी चाहिए। वही अब इस पर दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करते हुए कहा है कि मैं जांच के लिए तैयार हूं। ट्वीट के माध्यम से श्री सिंह नें लिखा, "मैं भाजपा अध्यक्ष बीडी शर्मा द्वारा गब्बू पारधी और मेरे संबंधों की जांच की मांग का स्वागत करता हूं। मैं शिवराज जी से अनुरोध करता हूं कि इसकी जांच बीडी शर्मा जी को ही सौंपी जाए। यह भी जांच करें कि शासकीय भूमि पर क़ब्ज़ा हटाने की कार्रवाई भाजपा के 15 सालों में क्यों नहीं की गई ?"

वहीं अब इस मामलें में पूर्व मंत्री जयवर्धन सिंह नें भी वीडी शर्मा के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए सरकार पर जनमत खरीदने का आरोप लगाया है उन्होंने ट्वीट के माध्यम से कहा है कि  
"मा. शर्माजी, राघौगढ़ राजपरिवार ने मंदिरों, सामाजिक संस्थाओं और किसानों को हज़ारों बीघा जमीन दान दी है गागरोन से लेकर राघौगढ़ तक हमारा इतिहास त्याग और बलिदान का रहा है। ये कमलनाथ जी का भूमाफियाओ के खिलाफ़ आंदोलन ही था जिससे घबराई हुई भाजपा ने मप्र में जनमत खरीदने का कार्य किया है।"

प्रदेश अध्यक्ष वी.डी. शर्मा ने कहा था कि  इसकी (गब्बू पारदी की) दिग्विजय सिंह के साथ क्या भूमिका है ? क्या संबंध है ? इसको लेकर मैंने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी को पत्र लिखा है। इस घटनाक्रम की जांच गंभीरता के साथ होनी चाहिए। जमीन का कथित अतिक्रमण करने वाले पारदी एवं दिग्विजय सिंह के बीच करीबी संबंध होने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा था कि दिग्विजय सिंह एवं गब्बू पारदी का क्या कनेक्शन है ? और कॉलेज के जो ठेकेदार हैं इन सब लोगों में गब्बू पारदी है। वह आदतन अपराधी है, उसके ऊपर 40 मुकदमे दर्ज हैं और वह कांग्रेस का कार्यकर्ता है। उन्होंने कहा कि गुना में एक उत्कृष्ट महाविद्यालय निर्माण के लिए लगभग साढ़े चार हेक्टेयर जमीन उच्च शिक्षा विभाग को सौंपी गयी थी और 12 करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए थे। इस जमीन पर गब्बू पारदी नामक व्यक्ति ने अतिक्रमण कर रखा था, जिसका लंबा आपराधिक रिकॉर्ड है और तीन थानों में उस पर कई मामले दर्ज हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि गब्बू पारदी ने ही एक महिला को कीटनाशक पीने के लिए उकसाया और जब महिला को अस्पताल ले जाया जा रहा था, तो गब्बू के इशारे पर ही कुछ लोगों ने पुलिस पर हमला कर दिया।

Post a Comment

0 Comments