कलेक्टर ने किए शासकीय भूमि पट्टे की बेचने के पांच प्रकरण निरस्त

रजिस्टर्ड विक्रय होने पर उप पंजीयक राघौगढ़ से मांगा गया स्पष्टीकरण

CLICK -  

गुना। (प्रदेश केसरी) कलेक्टर कुमार पुरूषोत्तषम ने शासकीय भूमि पट्टे की बेचने के पांच प्रकरण निरस्त कर दिए हैं। राघौगढ़ की अरूणा पत्नि अशोक कुमार जैन, सोनी कालोनी के अखिलेश पुत्र सुखचंद जैन, पिपरोदा खुर्द के देवेन्द्र सिंह राजपूत एवं हाउसिंग बोर्ड कालोनी गुना के दिनेश कुमार चौरसिया, दुर्गा कालोनी गुना के बिहारीलाल पुत्र किशनलाल लोधा एवं धाकड़ कालोनी की नीता सिंह द्वारा रजिस्टर्ड विक्रय पत्र के माध्यम से क्रय शासकीय पट्टे की भूमि को विक्रय करने संबंधित आवेदनों को पारित आदेश द्वारा निरस्त कर दिया है। इस आशय के जारी आदेश में उन्होंने उक्ता प्रकरण में म.प्र.भू-राजस्व संहिता 1959 की धारा 165 एवं 182 का उल्लंघन के मद्देनजर कि उक्त भूमियां पट्टे की थी तो उसका रजिस्टर्ड विक्रय पत्र कैसे हुआ ? इसके संबंध में स्पष्टीकरण देने का आदेश भी उप पंजीयक राघौगढ़ को दिया है।

एएनएम प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मृगवास निलंबित

एएनएम प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र  मृगवास (बीनागंज) जिला गुना  शकुन्तला श्रीवास्तव द्वारा जन्म प्रमाण पत्र जारी किये जाने के एवज में अवैध रूप से राशि लिये जाने के फलस्वरूप तथा जांच में दोषी पाये जाने के कारण निलंबित किया है। सीएमएचओ डॉ.पी बुनकर ने बताया कि एएनएम को म.प्र.सिविल सेवा आचरण नियम (वर्गीकरण, नियंत्रण तथा अपील) 1966 के नियम 9 के तहत तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। निलंबन अवधि में श्रीमति श्रीवास्वत का मुख्यालय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बमोरी जिला गुना रहेगा तथा नियमानुसार जीवन निर्वाह भत्ता की पात्रता रहेगी।

चिकित्सकों की पदस्थापना में फेरबदल

कलेक्टर कुमार पुरूषोत्तम द्वारा प्रशासकीय कार्य सुविधा की दृष्टि से चिकित्सा अधिकारी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र रूठियाई डॉ. महेन्द्र सिंह किरार वर्तमान में मारकीमऊ को आगामी आदेश तक प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र फतेहगढ़ जिला गुना में कार्य करने हेतु आदेशित किया गया है। साथ ही उन्होंने चिकित्सा अधिकारी फतेहगढ डॉ.मनीष कुमार शर्मा को अपने मूल पदस्थापना स्थल प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मृगवास वापस किया है। उन्हों ने निर्देशित किया है कि डॉ.शर्मा अपना संपूर्ण चार्ज डॉ.महेन्द्र  किरार को सौंपकर मृगवास हेतु कार्यमुक्त हों। इस आशय का जारी आदेश तत्काल प्रभाव से प्रभावशील किया गया है।

Post a Comment

0 Comments