गुना में सरकारी अस्पताल की अव्यवस्था और निजी अस्पताल द्वारा पैसे ऐंठने के चक्कर में गई प्रसूता की जान

एफआईआर की मांग को लेकर भाकपा ने सौंपा ज्ञापन

CLICK -  

गुना। (प्रदेश केसरी) जिला अस्पताल में फैली अव्यवस्थाओं और निजी अस्पतालों द्वारा की जा रही कथित लूट के खिलाफ भाकपा द्वारा बुधवार को कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा गया। ज्ञापन में बताया गया कि 21 अगस्त को छाया पत्नी विनय यादव की प्रसूति के लिए जिला अस्पताल में लाया गया था। जहां से डॉक्टरों ने बिना किसी जांच के उसको प्राइवेट महाकाल अस्पताल में रेफर कर दिया। यहां खून जांच कर उसका सीजर कर दिया गया। डिलेवरी के बाद छाया की हालत खराब होने लगी तो उन्होंने फिर उसको सरकारी अस्पताल वापिस भेज दिया। सरकारी अस्पताल वालों ने एक एम्बुलेंस से ग्वालियर रैफर कर दिया। जिसकी म्याना पहुँचते-पहुंचते मृत्यु हो गई। ज्ञापन में बताया गया कि बड़ी बात यह है कि जिस एम्बुलेंस से ग्वालियर भेजा गया था। उसमें ऑक्सीजन की व्यवस्था ही नहीं थी। आखिर सरकारी अस्पताल और महावीर अस्पताल ने मिलकर पैसे एंठने के चक्कर में एक महिला की जान ले ली। ज्ञापन में भाकपा ने संबधित सभी के खिलाफ एफआईआर करने की मांग की। वहीं 5 दिन का नवजात शिशु को छोड़कर छाया यादव चली गई उसके लिए 10 लाख की तुरन्त आर्थिक सहायता प्रदान की जाए। इस दौरान पार्टी जिला सचिव ने प्रशासन को चेताया है कि अगर उचित कार्यवाही नहीं की तो कम्युनिष्ट पार्टी जिला अस्पताल और महाकाल अस्पताल का घेराव करने को बाध्य होगी। ज्ञापन के दौरान मनोहर मिरोटा, लष्मीनारायन नामदेव, योगेंद्र शर्मा, बंटी ओझा, मुस्ताक खान, मृतिका का पति विनय यादव, पिता राजेन्द्र यादव, अशोक, मलखान, दीपक, गंगाप्रसाद, चंद्र यादव, प्रदीप साहू, राहुल, बलवीर, सौरभ यादव, योगेश सहती अनेक कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Post a Comment

0 Comments