शासन की प्राथमिकता वाली योजनाओं और कार्यक्रमों को सर्वोच्चता में रखे- कलेक्टर

समय - सीमा बैठक में कलेक्टर ने दिए निर्देश

गुना। (प्रदेश केसरी) कलेक्टर कुमार पुरूषोत्तम ने जिले के समस्त कार्यालय प्रमुखों से कहा है कि सरकार की प्राथमिकता के कार्यक्रम और योजनाओं को वे अपनी सर्वोच्च प्राथमिकता में रखें। छोटी-छोटी समस्याओं के प्रति भी शीघ्र एवं समुचित निराकरण सुनिश्चित करें। छोटी-छोटी बातों पर ध्यान नहीं देने पर बाद में वे बड़ी समस्याएं बन जाती है। उन्होंने यह बात आज समय-सीमा की आयोजित बैठक में प्राथमिकता वाले परिवारों को खाद्यान्न पर्ची जारी करने एवं आधार सीडिंग कि प्रगति की समीक्षा के दौरान कही।
उन्होंने नवीन लक्षित हितग्राहियों की खाद्यान्न पर्ची जारी नही होने एवं आधार सीडिंग में भी धीमी प्रगति पर कड़ी नाराजगी व्यक्त की तथा जिले के समस्त कनिष्टी आपूर्ति अधिकारियों के वेतन रोकने के निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्होंंने नगरीय निकाय आरोन अंतर्गत नवीन पात्रता पर्ची जारी नहीं होने और आधार सीडिंग कार्य में लापरवाही के चलते अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए सीएमओ नगर पंचायत आरोन को जल्द लक्ष् पूरा नहीं करने पर निलंबित करने की कड़ी चेतावनी भी दी। इसके साथ ही उन्होंने जिले के समस्त जनपद सीईओ, कनिष्टी आपूर्ति अधिकारियों एवं सीएमओ को उक्त 100 प्रतिशत उपलब्धि 10 अगस्त को अर्जित करने कड़ा संदेश दिया।
इस अवसर पर उन्होंंने जिले के समस्त एसडीएम को कोरोना वायरस के संक्रमण से नागरिकों के बचाव हेतु अनुविभाग स्तरीय मॉनिटरिंग समिति गठित करने के निर्देश दिए। उन्होंने निर्देशित किया कि गठित समिति क्षेत्रांतर्गत कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव हेतु फेस मास्क के उपयोग तथा फिजिकल डिस्टेंसिंग के पालन की मॉनिटरिंग के साथ ही विभिन्न धार्मिक, सामाजिक समूहों एवं अशासकीय संगठनों के साथ नियमित रूप से समझाइश दें एवं जनजागृति के कार्यक्रम आयोजित करें एवं आवश्यक संदेश आमजन तक पहुंचाएं।
निर्माण कार्यो की समीक्षा के दौरान उन्होंने जिले के समस्त एसडीएम को निर्माण कार्यो की नियमित समीक्षा करने, निर्माण कार्यो में गुणवत्ता की मॉनिटरिंग हेतु सिस्टम बनाने तथा खतरनाक हो चुके भवनों से संबंधित भवन स्वीमियों को नोटिस जारी करने के साथ ही शासकीय निर्माण विभागों को गुणवत्तापूर्णं कार्य कराए जाने के निर्देश दिए। हितग्राहीमूलक योजनाओं की समीक्षा के दौरान उन्होंने निर्देशित किया कि कार्यालय प्रमुख शासन की समस्त योजनाओं का लाभ संबंधित पात्र हितग्राहियों को मिले, यह सुनिश्चित करें। सेवाएं पहुंचाने का पैमाना बढा़एं तथा अपने कार्यो को रूचि लेकर करें। उन्होंने कहा कि शासन की योजनाओं से लाभांवित हितग्राही आर्थिक रूप से सशक्त होगा और उसकी क्रय शक्ति बढ़ेगी तथा समृद्धशाली होने पर वह विकास की मुख्यधारा से जुड़कर प्रदेश के विकास में अपनी सहभागिता करेगा। इसके साथ ही उन्होंने जिले के समस्त शासकीय तालाबों में मत्स्य पालन को प्रोत्साहित कर स्वरोजगार को बढ़ावा देने के निर्देश जिला मत्योसकद्योग अधिकारी को दिए।
कोविड-19 की जिले में अद्यतन स्थिति की समीक्षा के दौरान उन्होंने स्वास्थ्य विभाग को सार्थक लाइट एप पर प्राप्त जानकारियों के आधार पर अनिवार्यत: कार्यवाही करने, शहर की निचली बस्तियों से कोरोना संक्रमण के सामने आ रहे मामलों पर विशेष ध्यान केन्द्र करने तथा अस्प ताल की व्यवस्थाओं के सुधार हेतु लिए गए निर्णयों का क्रियान्वयन शीघ्र सुनिश्चित करने तथा समस्त सीएमओ को उनके क्षेत्रांतर्गत साफ-सफाई पर ध्यान देने एवं संबंधित अमले पर नियंत्रण रखने, नागरिकों में कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर सोशल डिस्टेंसिंग एवं चेहरे को मास्क से ढंकने के निर्देशों का पालन कराने तथा प्रधानमंत्री की स्ट्रीट वेण्डरों के लिए योजना का लाभ स्ट्रीट वेण्डरों तक पहुंचाने के निर्देश दिए।
इस अवसर पर जिपं सीईओ निलेश परीख द्वारा पितृ पक्ष के आरंभ के अवसर पर एक सितंबर 20 को जिले के वनांचल के 1000 हेक्टेंयर क्षेत्र में वृह्द स्तर पर पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित करने की योजना बताई गई तथा जिले के समस्त कार्यालय प्रमुखों को इसमें सहभागी बनने की बात कही। इस अवसर पर एडीएम उमेश शुक्ला  सहित विभिन्न विभागों के कार्यालय प्रमुख मौजूद रहे।

Post a Comment

0 Comments