जिलें में त्यौहारों एवं पर्वो पर सार्वजनिक स्थलों पर आयोजित नहीं होगे कार्यक्रम

जिला संकट समूह की बैठक में लिए गए निर्णय

CLICK -  

गुना। (प्रदेश केसरी) कलेक्टर एवं जिलादण्डाधिकारी कुमार पुरुषोत्तम ने कहा है कि राज्य शासन गृह मंत्रालय द्वारा कोरोनाकाल के मद्देनजर धार्मिक कार्य, त्यौहार एवं उपासना स्थलों पर कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु दिशा-निर्देश जारी किये गए हैं। निर्देशों के क्रम में उन्होंने कहा है कि कोई भी धार्मिक कार्य, त्यौहार का आयोजन सार्वजनिक स्थलों पर नहीं किया जाएगा। न ही कोई धार्मिक जुलूस या रैली निकाली जाएगी। साथ ही सार्वजनिक स्थानों पर किसी प्रकार की मूर्ति, झांकी एवं ताजिये आदि स्थापित नहीं किये जाएंगे। उन्होंने सभी संबंधितों से अपेक्षा की कि वे अपने-अपने घरों में पूजा-उपासना करेंगे। उन्होंने यह बात माह अगस्त 2020 में जन्माष्टमी, गणेश चतुर्थी एवं मोहर्रम और डोल ग्याारस त्यौहारों को देखते हुए जिले की डिस्ट्रिक् क्राइसेस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में कही। इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक गोपीलाल जाटव, पुलिस अधीक्षक  राजेश कुमार सिंह, जिपं सीईओ निलेश परीख, अपर कलेक्टर उमेश शुक्ला सहित प्रभारी अनुविभागीय अधिकारी राजस्व गुना संदीप श्रीवास्तव सहित जिला क्राइसेस मैनेजमेंट समुह के सदस्य मौजूद रहे। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि धार्मिक/उपासना स्थलों पर कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के लिए आवश्यक है कि एक समय में पांच से अधिक व्यक्ति इकट्ठे न हों। साथ ही उपासना स्थलों पर फेस कवर एवं सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का कड़ाई से पालन किया जाना सुनिश्चित किया जाए। इस अवसर पर उन्होंने बताया कि इसी प्रकार 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के कार्यक्रम राज्य शासन द्वारा प्रसारित निर्देशों के अनुरूप आयोजित किया जाए। निजी तौर पर आयोजित किये जाने वाले समारोहों में 5 से अधिक व्यक्ति इकट्ठे न हों। साथ ही फेसकवर एवं सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित किया जाए। क्षेत्रीय विधायक श्री जाटव ने समुह सदस्यों से कहा कि सभी मिलकर कोरोना के विरूद्ध लडा़ई लड़ेगें और जीतेंगे। कोरोना संक्रमण के फैलाव की संभावनाओं को देखते हुए सभी धर्मप्रेमी शासन के निर्देशों के अनुरूप अपने-अपने त्यौाहार अपने घर पर रहकर ही मनाएंगे। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री सिंह ने कहा कि कोरोना संक्रमण काल में सतर्कता आवश्यक है। गुना शहर में मूर्ति एवं ताजिया विसर्जन हेतु जिला प्रशासन द्वारा आवश्यक वाहनों की निर्धारित स्थलों पर व्यवस्था की जाएगी। जुलूस नहीं निकाले जा सकेंगे और न ही कोई सामूहिक कार्यक्रम सार्वजनिक स्थलों पर आयोजित किये जा सकेंगे।
बैठक में कोरोनाकाल को देखते हुए प्रतिकात्मक रूप से अपने-अपने घरों में छोटे आकार में मिट्टी के गणेश स्थापित करने तथा इसी प्रकार ताजिये भी अधिकतम 3 फिट से अधिक नही रखने पर सहमति से निर्णय लिये गए तथा मूर्ति एवं ताजिया विसर्जन के लिए जिला प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराये गए वाहन द्वारा पंडित एवं मौलवियों के माध्यम से अस्थाई रूप से बनाये जाने वाले कुंड में कराये जाने पर सहमति बनी। इसी प्रकार श्रीकृष्णा जन्माष्टमी के मौके पर दही हांडी के कार्यक्रम तथा मंदिरों में सामुहिक कार्यक्रम भी आयोजित नही करने का भी निर्णय लिया गया। सभी सदस्यों ने चेहरे को मास्क से ढंकने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने का आग्रह सभी धर्मप्रेमी बंधुओं से किया गया।

Post a Comment

0 Comments