चूहों और केकड़ों ने तोड़े गोविंदपुरा बांध के गेट

गेट टूटने पर अधिकारियों का अजीबोगरीब बयान 

CLICK -  

गुना। (प्रदेश केसरी) जिले के मधुसूदनगढ़ सिंचाई विभाग अंतर्गत आने वाले गोविंदपुरा बांध का गेट टूटने पर सिंचाई विभाग के अधिकारी ने अजीबोगरीब बयान दिया है। अधिकारी के अनुसार बांध का गेट टूटा नहीं है चूहों और केकड़ों ने छेद कर दिया है। इधर मामला प्रकाश में आने के बाद विभाग ने गोविंदपुरा बांध के टूटे गेटों की मरम्मत का काम शुरू करा दिया है। उल्लेखनीय है कि मक्सूदनगढ़ के गोविंदपुरा बांध का टूटा गेट होने के कारण लाखों लीटर पानी रोजाना बहकर बर्बाद हो रहा था। वहीं सिंचाई विभाग कर्मचारी अधिकारियों ने अपनी लापरवाही को छुपाने के लिए टूटे गेट में से निकल रहे पानी का मुंह नाले में मोड़ दिया था। ताकि अपनी लापरवाही सिंचाई विभाग अधिकारी कर्मचारी छुपा सके, और किसी को कुछ पता ना चले। मामला प्रकाश में आने के बाद सिंचाई विभाग के आला अधिकारी हरकत में आए और आनन-फानन में मधुसूदनगढ़ के गोविंदपुरा बांध पहुंचकर मौका मुआयना किया। फिलहाल टूटे गेट की मरम्मत शुरू हो गई। इस बारे में सिंचाई विभाग के एसडीओ डीपी गोलिया ने बताया कि गोविंदपुरा बांध का गेट टूटा नहीं है चूहों और केकडों ने छेद कर दिया है। फिलहाल गेट की मरम्मत की जा रही है।

Post a Comment

0 Comments