ऑनलाइन छेड़छाड़: 8 दिन बाद क्राइस्ट स्कूल प्रबंधन को भेजा पुलिस ने नोटिस

24 घण्टे गुजरने के बाद भी स्कूल प्रबंधन ने नही दिया कोई जबाब

गुना। (प्रदेश केसरी) शहर के क्राईस्ट स्कूल की ऑनलाइन क्लास के दौरान हुई छेड़छाड़ के मामले में पुलिस ने 8 दिन बाद स्कूल प्रबंधन को नोटिस भेजा है। हालांकि उक्त नोटिस में छेड़छाड़ की बात का उल्लेख स्पष्ठ नहीं किया गया। उल्लेखनीय है कि गत दिवस एक अभिभावक द्वारा सिटी कोतवाली पुलिस को शिकायती आवेदन देकर बताया गया कि 10 सितंबर 020 को उनकी बेटी को ऑनलाइन क्लास में पढ़ते वक्त किसी व्यक्ति द्वारा अश्लील गाली पोस्ट की गई। वहीं 6 अक्टूबर 20 को मेरी नाबालिग बेटी के साथ  गूगल मीट पर पढते वक्त कमेन्ट्स एवं गाली पोस्ट की गई। दिनांक 8 अक्टूबर 20 को को पुन: से अपशब्द लेख किये गये है। उक्त मामले की लिखित शिकायत आवेदक के द्वारा वाइस प्रिंसिपल एवं पीआरओ को की गई। लेकिन उक्त आवेदक की शिकायत के संबंध में दोषी व्यक्ति के विरुद्ध द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई। इस संबंध में सिटी कोतवाली पुलिस द्वारा एक नोटिस जारी कर स्कूल प्रबंधन से पूछा कि उक्त मामले में उन्होंने क्या कार्रवाई की गई तथा वहीं ऑनलाईन क्लास के गूगल एप एवं जूम एप किसकी आई.डी पासवर्ड के द्वारा संचालित किये जाते है, एवं उक्त पोस्ट किस आई.डी पासवर्ड से पोस्ट की गई है। उक्त संबंध में जानकारी तलब की गई थी। सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार नोटिस जारी होने के 24 घण्टे गुजर जाने के बाद भी स्कूल प्रबंधन द्वारा पुलिस प्रशासन को कोई जानकारी नही दी गई है।
उल्लेखनीय है कि सिटी कोतवाली पुलिस के द्वारा भेजे गए सूचना पत्र (नोटिस) में पुलिस द्वारा छेड़छाड़ की बात का उल्लेख  स्पष्ट नहीं किया गया है। जबकि कानून के जानकारों का मानना है कि नाबालिक बच्चों, लड़की के साथ होने वाले अपराध के संबंध में नियमों के मुताबिक तीसरे दिन ही अज्ञात आरोपियों के खिलाफ पुलिस को मामला दर्ज करना आवश्यक होता है। उक्त मामले में प्रथम दृष्टया क्राइस्ट स्कूल प्रबंधन की पहली जिम्मेदारी बनती है क्योंकि ऑनलाइन क्लास पढ़ाने का निर्णय और पढ़ाई का संचालन क्राइस्ट स्कूल प्रबंधन के द्वारा किया जा रहा है। जबकि आम छेड़छाड़ के  मामलें में देखा जाता है कि जिसमें पीड़ित लड़की के द्वारा सिर्फ मौखिक तरीके से छेड़छाड़ की बात कहने के बाद संबंधित आरोपी के विरुद्ध छेड़छाड़ का मामला पुलिस पंजीबद्ध करती है, वहीं दूसरी ओर ऑनलाइन छेड़छाड़ के मामले में पूरे प्रूफ और सबूत देने के बाद भी मामला दर्ज ना करके नोटिस जारी किया गया है।

Post a Comment

0 Comments