स्कूलों की मनमानी और प्रशासन की उदासीनता के चलते अभिभावक परेशान

गुना। (प्रदेश केसरी) पैरंट एसोसिएशन द्वारा लगातार जिला शिक्षा अधिकारी एवं जिलाधीश को निजी विद्यालयों द्वारा की जा रही मनमानी के लिए अवगत कराया गया है। इसके बावजूद भी जिला प्रशासन एवं जिला शिक्षा अधिकारी ना जाने किस दबाव में आकर शांत बैठे हुए हैं। प्रशासनिक उदासीनता के चलते स्कूल संचालकों के हौंसले बुलंद बने हुए हैं और इधर बच्चों के पैरेंट्स परेशान हो रहे हैं। 
दरअसल हद तो तब हो गई जब ऑनलाइन क्लास के बाद ऑनलाइन एग्जाम लिए गए और क्राइस्ट स्कूल द्वारा ऑनलाइन एग्जाम के रिजल्ट के लिए पूरी की पूरी कक्षाओं के अभिभावकों को स्कूल बुलाया जा रहा है। साथ ही स्कूल में आने के पश्चात उनसे दबाव डालकर फीस की मांग की जा रही है। अभिभावकों से कहा जा रहा है यदि आपने फीस जमा नहीं की तो नवंबर में आयोजित होने वाले ऑनलाइन एग्जाम में आपके बच्चों को ना तो आईडी कार्ड दिया जाएगा और ना ही परीक्षा में बैठने दिया जाएगा। ऐसे में उनको फेल घोषित कर दिया जाएगा, इससे आपके बच्चे का साल खराब हो जाएगा। इतनी बात होने के बावजूद भी प्रशासन और जिला शिक्षा अधिकारी चुप्पी साधकर बैठे हुए हैं। ऐसा नहीं है कि यह खबरें उनके कानों कान तक नहीं पहुंचती, क्योंकि उन्हें स्वयं शिकायती पत्र भी दिया जाता है। इससे स्पष्ट होता है कि यह सारी बातें निरंतर सोशल मीडिया व मीडिया के माध्यम से उन तक पहुंच रही हैं। इसके बावजूद प्रशासन की चुप्पी कहीं ना कहीं अभिभावकों का विश्वास खो रही है। अभी कुछ दिनों से लगातार क्राइस्ट स्कूल के टीचरों द्वारा फोन भी लगाए जा रहे हैं, अब उन्होंने नया तरीका अपना लिया है। लैंडलाइन पर वह महिलाओं को फोन लगा रहे हैं ताकि उन पर प्रेशर बनाया जा सके।

इतना दबाव की पेरेंट्स घबराने लगे

क्राइस्ट स्कूल में कुछ वीडियो भी पेरेंट्स ने बनाएं, लेकिन उन पर इतना दबाव बनाया जा रहा है कि वह सामने आने में भी घबराने लगे हैं। एक और बात ध्यान देने योग्य है जब 300 रुपये बोर्ड रजिस्ट्रेशन के लिए शुल्क निर्धारित है तो फिर बंदना और क्राइस्ट स्कूल द्वारा बहुत सारे ऐसे शुल्क लिए जा रहे हैं जिनकी रसीद भी नहीं दी जा रही है। पेरेंट्स द्वारा जब रसीद मांगी जाती है तो उनसे कहा जाता है आप ऑफिस में जाएं। मजबूरी अब यह है कि अभिभावक अपने बच्चों को लेकर बहुत ही चिंतित है और ऐसी स्थिति में जब 6 अक्टूबर को उच्च न्यायालय का आदेश आना है। सभी स्कूल वाले अपनी रोटी सेकने में लगे हैं केवल गुना का जिला प्रशासन और जिला शिक्षा अधिकारी मौन बैठे हुए हैं। बांकी सभी जगह कार्यवाही की जा रही है, ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या जिला प्रशासन और जिला शिक्षा अधिकारी और स्कूल प्रबंधन की कोई सांठगांठ है। उक्त सभी समस्याओं के संबंध में रविवार को स्वतंत्रता पार्क गुना में पैरंट्स बैठक आयोजित की गई। जिसमें सभी पेरेंट्स द्वारा एकमत होकर यह निर्णय भी लिया कि यदि स्कूल प्रशासन ने अपनी मनमानी इसी प्रकार जारी रखी तो वह एक साथ जाकर सामूहिक रूप से बच्चों की टीसी स्कूल से निकलवा लेंगे। साथ ही यदि जिला प्रशासन ने कोई कार्रवाई नहीं की तो आगामी समय में धरना प्रदर्शन या आंदोलन भी करने के लिए मजबूर होंगे।

Post a Comment

0 Comments