हाथरस घटना के विरोध में हड़ताल पर सफाईकर्मी

गुना। (प्रदेश केसरी) उप्र के हाथरस में हुए युवती के साथ गैंगरेप और निर्मम हत्या के विरोध में जिले में भी आक्रोश फूट पड़ा है। वाल्मिक समाज के नेतृत्व में जिलेभर के सफाई कर्मचारी हड़ताल पर चले गए। जिसके चलते रविवार को शहर में व्यवस्था ठप्प रही। शहर की गलियों में सुबह-सुबह सुनाई देने वाला स्वच्छता गीत लोगों को सुनाई नहीं दिया। इस दौरान शहर में सार्वजनिक सफाई व्यवस्था से लेकर अस्पतालों, निजी संस्थानों एवं प्रतिष्ठानों की सफाई व्यवस्था गड़बड़ा गई। जिला अस्पताल में सफाई कर्मचारी हड़ताल पर रहने के कारण वार्डों में गंदगी फैल रही। इस दौरान वार्ड बॉयों को जरूरी सफाई करनी पड़ी। ऐसे में सोमवार को जिला अस्पताल सहित शहरभर में स्थिति और बिगड़ सकती है।
इधर रविवार शाम को वाल्मिकी समाज द्वारा शहर के लोगों को अपील पत्र बांटकर असुविधा के लिए क्षमा मांगते हुए हाथरस की बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए चल रहे संघर्ष में भागीदार बनने की अपील की गई। अपील में वाल्मिकी समाज ने कहा कि 'हमारी मजबूरी है कि हम संघर्ष करें, नगर हमारी मां है। नगरवासियों को परेशानी की हमारी मंशा नहीं है। किंतु अपने हितों के लिए बच्ची के खातिर हड़ताल करने पर मजबूर हैं, आपकी परेशानियों से हम भलीभांति परिचित हैं। किंतु हमारी संतानें आपकी संतान समझकर उन्हें पालने में संघर्ष करने में आपको जो भी कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है हम उसके लिए क्षमा प्रार्थी हैं। हम आपके और आप हमारे हैं। हमारे बच्चों के खातिर संघर्ष आवश्यक है। क्षमा करने की कृपा करें, ऐसी हमें उम्मीद है। इस मौके पर नपा के पूर्व नेता प्रतिपक्ष सुनील मालवीय एवं महेश परोसिया ने हाथरस की घटना पर गहरा रोष जताते हुए कहा कि इस घटना के एक-एक आरोपित को जल्द से जल्द फांसी दी जाए और कार्रवाई में 8 दिन की देरी करने वाले पुलिस अफसरों पर भी कार्रवाई हो। घटना के विरोध में वाल्मिकी समाज द्वारा 05 अक्टूबर को शहर में रैली निकाली जाएगी।

Post a Comment

0 Comments