मेरे भाई के अधजले शव को बरामद करने के बाद भी सच छिपा रही पुलिस

 10 माह से परेशान हो रहा पीडि़त परिवार, युवक के भाई सन्तोष ने लगाए गम्भीर आरोप, सीएम से करेंगे शिकायत


CLICK -

गुना। (प्रदेश केसरी) जिले के बजरंगगढ़ थानांतर्गत 10 माह पहले मिले अधजले शव के मामले में पुलिस पकड़ अब तक आरोपियों से दूर है। आरोपियों को पकडऩा तो दूर पुलिस मामले की जांच करने तक को तैयार नहीं है।  मृतक हेमराज सिलावट की हत्या अब भी राज बनी हुई है। इसमें मृतक हेमराज के भाई संतोष सिलावट बीते दस माह से न्याय मिलने की आस में आला अधिकारियों से लेकर थाने के चक्कर काट- काटकर थक चुके हैं। जबकि पुलिस उन्हें हमेशा पता लगाने की बात कहकर चलता कर देती है। अब संतोष सिलावट इस मामले में न्यायालय की शरण के साथ ही सीएम शिवराज सिंह से न्याय की मांग करेंगे। इसके लिए उन्होंने पुलिस अधिकारियों द्वारा बरती गई लापरवाही और उनकी मिलीभगत के दस्तावेज भी जुटा लिए हैं।

क्या है मामला


दरअसल आरोन निवासी हेमराज सिलावट का शव बजरंगगढ़ थाने के सेमरी मंदिर के पीछे अधजली अवस्था में मिला था। जिसमे हेमराज के परिजनों ने उनकी हत्या कर शव को जलाए जाने के आरोप लगाए हैं। इसमें शुरुआती दौर में पुलिस जांच में भी हत्या किए जाने की बात सामने आ रही थी। इसके बाद पुलिस ने हेमराज की हत्या की जांच में हो रहे खुलासे पर लीपापोती शुरू कर दी। मृतक हेमराज के भाई संतोष सिलावट ने पुलिस पर आरोपियों से मिलीभगत के आरोप लगाए हैं। संतोष का कहना है, कि इस मामले वह एसपी से लेकर थानाप्रभारी तक को आरोपियों के साक्ष्य दे चुके हैं। इसके बाद भी उन्हें बस जांच चल रही है का आश्वाशन देकर लौटा दिया जाता है। यही नहीं सन्तोष का यह भी कहना है कि पुलिस ने अब तक उनके और परिवार के बयान  तक नहीं लिए हैं।

सीएम के सामने करूँगा आत्मदाह


आरोन से 4 जनवरी को लापता हुए हेमराज का शव 14 जनवरी को अधजली अवस्था मे मिला था। इस मामले में मृतक के भाई संतोष सिलावट ने हत्या में शामिल लोगों की शिकायत के पुलिस को जानकारी दी थी। पुलिस ने भी न्याय का भरोसा दिलाया था। इसके बाद पुलिस ने आरोपियों को बचाने का खेल शुरू कर दिया। संतोष ने कहा कि उनके भाई के हत्यारों को नहीं पकड़ा गया तो वह सीएम के सामने आत्मदाह करेंगे।

Post a Comment

0 Comments