अनलॉक-5: मूर्ति एवं पांडालों पर ऊंचाई पर लगी रोक हटी

धार्मिक कार्यक्रमों एवं त्यौहारों के मद्देनजर धारा 144 के नए आदेश जारी


CLICK -  

गुना। (प्रदेश केसरी) अनलॉक-5 के नवीन दिशा-निर्देशों में धार्मिक कार्यक्रमों, त्योहारों के संदर्भ में नवीन दिशा निर्देश जारी किए गए हैं। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी कुमार पुरूषोत्तम द्वारा उक्त दिशा-निर्देशों के क्रम में कार्यालयीन आदेश 19 सितंबर में संशोधन किया गया है। जारी निर्देशों में उन्होंने विभिन्न सार्वजनिक स्थानों पर स्थापित की जाने वाली प्रतिमा, ताजिये की ऊंचाई पर पूर्व में उल्लेखित प्रतिबंध समाप्त किया है। प्रतिमा, ताजिये के लिये पण्डाल का आकार अधिकतम 30 बाई 45 फीट नियत किया गया है। झांकी निर्माताओं को आवश्यक रूप से सलाह दी गयी है कि वे ऐसी झांकियों की स्थापना एवं प्रदर्शन नहीं करें जिनमें संकुचित जगह के कारण श्रद्धालुओं एवं दर्शकों की भीड़ की स्थिति बने तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नही हो सके। झांकी स्थल पर श्रद्धालुओं एवं दर्शकों की भीड़ एकत्र नहीं हो तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो, कि व्यवस्था आयोजक सुनिश्चित करने निर्देशित किया है। मूर्ति विसर्जन संबंधित आयोजन समिति द्वारा किया जाने निर्देशित किया गया है। मूर्ति को विसर्जन स्थल पर ले जाने के लिये अधिकतम 10 व्यक्तियों के समूह की अनुमति होगी। इसके लिये आयोजकों को पृथक से संबंधित अनुविभागीय दण्डाधिकारी से लिखित अनुमति प्राप्त किया जाना आवश्यक होगा। सभी अनुविभागीय दण्डाधिकारी, थाना, ब्लॉक स्तर की शांति समिति की बैठक में विसर्जन स्थलों का चयन कर आयोजकों एवं कार्यालय जिला दण्डा धिकारी को अवगत करायेंगे।
जारी आदेश में कोविड संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए धार्मिक एवं सामाजिक आयोजन के लिये चल समारोह निकालने की अनुमति नहीं होने, विसर्जन के लिये सामूहिक चल समारोह की अनुमति नहीं होने तथा गरबा के आयोजन नहीं हो सकेंगे। लाउडस्पीकर बजाने के संबंध में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा जारी की गई गाईडलाईन का अनिवार्यत: पालन सुनिश्चित किए जाने निर्देशित किया गया है। जारी आदेश अनुसार रावण दहन के पूर्व परम्परागत श्री राम के चल समारोह की प्रतीकात्मक रूप से अनुमति होगी। रामलीला तथा रावण दहन के कार्यक्रम खुले मैदान में फेस मास्क तथा सोशल डिस्टेंसिंग की शर्त पर आयोजन समिति द्वारा कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी की पूर्वानुमति प्राप्त कर आयोजित किये जा सकेंगे। 
सार्वजनिक स्थानों पर कोविड संक्रमण के बचाव के तारतम्य में झांकियों, पंडालों, विसर्जन के आयोजनों, रामलीला तथा रावण दहन के सार्वजनिक कार्यक्रमों में श्रद्धालु एवं दर्शक फेस कवर, सोशल डिस्टेंसिंग एवं सेनेटाइजर के प्रयोग के निर्देशों का पालन कड़ाई से सुनिश्चित किया जाने, समस्त दुकानें सायंकाल 8 बजे तक ही खुलने, केमिस्ट, रेस्टोरेंट, भोजनालय, राशन एवं खानपान से संबंधित दुकानें अपने निर्धारित समय तक खुली रखने निर्देशित किया गया है। रात्रि 10.30 बजे से प्रात: 6.00 बजे तक अकारण आवागमन प्रतिबंधित रहेगा। जारी आदेश राजस्व, पुलिस, विद्युत, चिकित्सा विभाग तथा नगरपालिका कर्मचारियों एवं अधिकारियों पर उक्त आदेश के शासकीय कार्य निर्वहन के दौरान प्रभावी नहीं होगा। जारी आदेश दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144(2) के तहत एक पक्षीय रूप से पारित किया गया है।

Post a Comment

0 Comments