मसाला फैक्ट्री पर प्रशासन का छापा

  • फैक्ट्री में घटिया मसाला और मिलावट का चल रहा था खेल
  • सैंपलिंग की कार्रवाई कर फैक्ट्री को किया सील

CLICK -

गुना। (प्रदेश केसरी) मिलावटखोरों के खिलाफ प्रशासन सतर्क हो गया है। गुरुवार को सुबह प्रशासन की टीम ने शहर के कुसमौदा क्षेत्र में श्याम मसाला फैक्ट्री पर छापामार कार्रवाई की है। जिसमें बड़ी मात्रा में मिलावटी मसाला और अन्य अनियमितताएं मिली हैं। कार्रवाई सुबह 8 बजे कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम और एसपी राजेश कुमार सिंह, एसडीएम अंकिता जैन की मौजूदगी में खाद की विभाग की टीम ने की है। छापामार कार्रवाई के दौरान प्रशासन की टीम ने मसालों के सैंपल लिए हैं। कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने बताया कि फैक्ट्री में मसाला और धनिया का निर्माण किया जा रहा है। मसाला और धनिए की जांच की गई तो उसमें भी बड़ी मात्रा में मिलावट पाई गई है, जिसकी जांच कराई जा रही है। फैक्ट्री संचालक अपराधी किस्म का मालूम पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि लंबे समय से कुसमौदा क्षेत्र में फैक्ट्री संचालित हो रही थी और इसकी जांच जारी किए गए हेल्पलाइन नंबर पर मिली थी। जांच में अगर सैंपल फैल पाए जाते हैं और फैक्ट्री अवैध पाई जाती है तो उसे गिराया जाएगा और संचालक के खिलाफ रासुका की कार्रवाई भी की जाएगी।

हेल्पलाइन नंबर से मिली थी कलेक्टर को सूचना


जिला प्रशासन ने मिलावटखोरों पर कार्रवाई करने के लिए पिछले दिनों हेल्पलाइन नंबर  07542-254137 अथवा वाट्सअप नंबर 9827137509 जारी किया और उसमें सूचना देने वाले का नाम गोपनीय रखने की बात भी कही गई थी। इसके बाद गुरुवार सुबह 7.30 बजे कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम हेल्पलाइन नंबर से सूचना मिली की कुसमौदा क्षेत्र में श्याम मसाला फैक्ट्री में बड़ी मात्रा में मिलावटखोरी चल रही है और यह फैक्ट्री पशु आहार के नाम से संचालित होती है। इसके बाद कलेक्टर ने तत्काल एसडीएम अंकिता जैन और खाद विभाग की टीम को को कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

सुबह 8 बजे हुई छापामार कार्रवाई


बताया जाता है कि जैसे ही प्रशासन की मिलावट मसाला बनाने की सूचना मिली तो मौके पर पहुंचकर फैक्ट्री में जांच-पड़ताल शुुरु कर दी। इस बीच मसाला निर्माण में इस्तेमाल किए जा रहे मिर्ची और धनिए में डंठल और रंग को जप्त किया गया। साथ ही निर्माण पैकिंग को खोलकर देखा गया तो उसमें काफी मात्रा में मिलावट देखी गई। खाद्य विभाग की टीम ने अलग-अलग सैंपल लिए और फैक्ट्री के दस्तावेजों की भी जांच की गई।

मिर्च और धनिए में ऐसे करते थे मिलावट


खाद्य संरक्षा अधिकारी नवीन जैन ने बताया कि धनिए के डंठल का इस्तेमाल कर पाउडर तैयार किया जाता है। इसमें धनिया में ही डंठल को पीसकर मिलाए जाते हैं। फिर इसकी पैकिंग की जाती है। वहीं मिर्ची में भी लाल करने के लिए उसमें रंग मिलाया जाता है। उद्योग पर यह मिलावटी सामग्री भी जब्त की गई थी।

Post a Comment

0 Comments