मप्र के निवाड़ी जिले में बोरवेल में गिरा चार साल का बच्चा, बचाव कार्य जारी


CLICK -

भोपाल। (प्रदेश केसरी) मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले के पृथ्वीपुर थाना क्षेत्र के सैतपुरा गांव में बुधवार को प्रातः 10 बजे चार वर्षीय मासूम बोरवेल में गिर गया। सूचना मिलने पर पहले पुलिस व प्रशासन ने बचाव कार्य शुरू किया अंततः सफलता नही मिलने पर सेना की मदद ली जा रही है। बच्चा करीब 200 फीट गहरे बोरवेल में 60 फिट पर फंसा हुआ है। पिछले 22 घण्टे गुजरने के बाद अभी तक 45 फिट बोरवेल के पास अलग से गड्ढा खोदा जा चुका है। स्वास्थ्य विभाग की टीम गड्ढे में पाइप से ऑक्सीजन पहुंचा रही है। सेना ने लेफ्टीनेंट कर्नल केके गौतम के नेतृत्व में मोर्चा संभाल लिया है।
घटना बुधवार को तब हुई जब किसान हरकिशन कुशवाहा स्वजनों के साथ खेत पर पांच दिन पूर्व करवाए गए नए बोरिंग में पाइप केसिंग डलवाने गए थे। साथ में चार वर्षीय पुत्र प्रह्लाद भी था।
स्वजनों का ध्यान केसिंग डालने में था तभी बालक खेलते-खेलते बोर के पास चला गया। स्वजन दौड़े लेकिन जब तक वह अंदर गिर चुका था। तुरंत पुलिस को फोन लगाया। मौके पर पुलिस, प्रशासन की टीम पहुंची और खोदाई शुरू की।

बोरवेल में कैमरे से रख रहे नजर


निवाड़ी कलेक्टर आशीष भार्गव ने मोर्चा संभाला और स्वास्थ्य विभाग को पाइप से बोरवेल में ऑक्सीजन पहुंचाने के निर्देश दिए। सूचना मिलने पर समीप स्थित सेना की बबीना छावनी से लेफ्टीनेंट कर्नल केके गौतम पहुंचे और जायजा लेने के बाद अपनी टीम को बबीना से बुलाया। पांच जेसीबी, दो एलएनटी मशीनों को खोदाई में लगाया गया है। झांसी (उत्तर प्रदेश) से नाइट विजन कैमरों की टीम को बुलाया गया, जिससे बोरवेल में कैमरा डाल कर बच्चे स्थिति पर नजर रखे हुए हैं।

सीएम ने फेसबुक पर की बच्चे के लिए कामना


मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ऑफिशियल फेसबुक पेज पर लिखा कि ओरछा के सैतपुरा गांव में बोरवेल में गिरे मासूम प्रह्लाद को बचाने के लिए स्थानीय प्रशासन के साथ सेना बचाव कार्य में जुटी है।

ऐसे बोरवेल में गिरा बच्चा


बता दें कि पृथ्वीपुर थाना क्षेत्र के सेतपुरा गांव के रहने वाला प्रहलाद कुशवाह नामक बच्चा अपने खेत में खेल रहा था। इसी बीच वो बोरवेल के पास पहुंचा। बोरवेल को ढंक कर रखा गया था। बच्चे ने ढक्कन हटा दिया और उसमें झांकने लगा। इसी बीच नीचे गिर गया। कलेक्टर आशीष भार्गव, एसपी वाहिनी सिंह मौके पर पहुंचे।

Post a Comment

0 Comments