शिवराज मामा नहीं मामू हैं जो सभी को मुर्ख बनाते हैं- दिग्विजय सिंह

चुनाव प्रचार के अंतिम दिन मारकीमहू में कांग्रेस की सभा आयोजित



CLICK -

गुना। (प्रदेश केसरी) शिवराज सिंह अपने आपको मामा कहते हैं, लेकिन सही है वह मामा नहीं वह मामू हैं। मामू वह होता है जो लोगों को मुर्ख बनाता है जो वह कर रहे हैं। कल उन्होंने मेरी बात में बहुत कुछ कहा। मैंने कभी भी लोगों के लिए जाल नहीं फेंका। मैंने लेकिन कभी अन्याय और अत्याचार नहीं किया। मैंने हमेशा अन्याय और अत्याचार के लिए हमेशा लड़ता रहा हूं। ग्वालियर-चंबल संभाग में सिंधिया जी के कारण कम आना जाना रहा है। लेकिन हमारे यहां पारिवारिक संबंध हैं। मुझे खुशी है कि जयवर्धन सिंह ने अब यहां घूमना शुरू कर दिया। उक्त बात पूर्व दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस प्रत्याशी केएल अग्रवाल के समर्थन में बमोरी के मारकीमहू में आयोजित सभा को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर श्री सिंह ने कहा कि हम सिंधिया जी का मान सम्मान करते हैं। लेकिन हमें यह विश्वास नहीं था कि वह जनता के साथ ऐसा धोखा करेंगे। श्री सिंह ने कहा कि मैंने 28 सीटों में अनुभव किया कि यह चुनाव जनता लड़ रही है। लोगों में बहुत गुस्सा है। जनता ने मन बना लिया है भाजपा को हराना है उसकी सहानभूति कमलनाथ जी के साथ है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि लोकतंत्र है जो काम करेगा वह जीतेगा, जो नहीं करेगा वह हारेगा। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि हमारे ग्रामीण क्षेत्र में मवेशियों की बोली लगती है। लेकिन आज भाजपा विधायकों की बोली लगाकर खरीद कर लोकतंत्र की हत्या कर रही है। मोदी जी कहते हैं कि हम काला धन समाप्त कर देेंगे, आखिर यह कैसा धन था जिनसे विधायकों को खरीदा गया। उन्होंने कहा कि मुझे पूरा भरोसा है आप लोग केएल अग्रवाल को आशीर्वाद देंगे तो वह बिकेंगे नहीं, जनता का भरोसा नहीं तोड़ेंगे। उन्होंने ग्रामीण जिलाध्यक्ष मानसिंह परसौदा का उदाहरण देते हुए कहा कि उन्होंने तीन बार पैसे आने के बावजूद लिए बिना कांग्रेस के प्रत्याशी को जिला पंचायत में वोट दिया। ऐसे कांग्रेस के कार्यकर्ता आज हमारे साथ है। हमारे साथ बिकाऊ टीम नहीं है। बिकाऊ टीम तो महाराज के साथ चली गई। उन्होंने दावा किया कि हम 28 सीटें जितेंगे और कमलनाथ जी के नेतृत्व में फिर से सरकार बनाएंगे। श्री सिंह ने कहा कि शिक्षा, रोजगार, आवास, सड़कें सभी तरह की योजनाएं कांग्रेस पार्टी ने चलाई थी। भाजपा की किसान, दलित और गरीब विरोधी मानसिकता है। उन्होंने सिंधिया पर निशाना साधते हुए कहा कि जिस भाजपा ने उन्हें पराजित किया उसकी शरण में सिंधिया जी चले गए। आखिर यह कैसा आत्मसम्मान है। भाजपा कहती है कि किसानों का कर्जा माफ नहीं हुआ, जबकि 27 लाख किसानों का कर्जा माफ हुआ है। इस मौके पर कांतिलाल भूरिया एवं कांग्रेस प्रत्याशी केएल अग्रवाल ने भी संबोधित किया।

Post a Comment

0 Comments