बच्चों को अपनी मातृभाषा हिंदी पढ़ाना चाहिए - प्रेमभूषण महाराज


CLICK -

गुना। (प्रदेश केसरी) बच्चों को अपनी मातृभाषा हिंदी पढ़ाना चाहिए, संस्कृति ज्ञान कराना चाहिए। इंग्लिश में नहीं हिंदी भाषा संस्कृति भाषा का ज्ञान देना चाहिए। प्राइवेट स्कूलों में पढऩे वाला बच्चा हर प्रकार की सुविधा होने के बाद भी नाम रोशन नहीं करता पाता और संस्कृति में पढऩे वाला बच्चा नाम रोशन कर जाता है संस्कृति भाषा का ज्ञान देना चाहिए। उक्त बात भार्गव कॉलोनी में चल रामकथा में प्रवक्ता प्रेमभूषण महाराज ने श्री राम भगवान मर्यादा पुरुषोत्तम की बाल लीलाओं का वर्णन करते हुए कही। महाराज ने कहा कि मनुष्य को कैसे रहना चाहिए, यह श्री राम कथा सिखाती है। जिन्हें संसार से उतर कर पार जाना है उन्हें श्री राम कथा सेवन करना चाहिए। भगवान ने अपनी लीला मनुष्य को मार्गदर्शन कराने के लिए की है। भगवान मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम अपने मर्यादा में रहकर सत्य मार्ग पर चलने की लीलाएं सिखाई। दूसरी तरफ लीला करके कृष्ण भगवान ने मनुष्य जीवन को मार्गदर्शन दिखाया।

Post a Comment

0 Comments