जिले के कृषक किसान उत्पादक संगठन किसानों का बनेगा समूह

कृषक सेमीनार का हुआ आयोजन


CLICK -

गुना। (प्रदेश केसरी) जिले के प्रगतिशील कृषकों हेतु भारत सरकार की एफ.पी.ओ. (फार्मर उत्पादक संगठनों) का गठन और संवर्धन एवं एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फण्ड (कृषि अवसंरचना निधि) योजना के संबंध में कृषक सेमीनार का आयोजन किया गया। उप संचालक कृषि गुना अशोक कुमार उपाध्याय द्वारा कृषक सेमीनार में भारत सरकार की इन योजनाओं के उदेश्य एवं महत्व के बारे में कृषकों को विस्तार में जानकारी देते हुए बताया कि जिले के कृषक किसान उत्पादक संगठन किसानों का समूह बनाएंगे। जिससे उससे जुड़े किसानों का न सिर्फ उनकी उपज का बाजार मिलेगा बल्कि खाद, बीज, दवाईयों और कृषि उपकरण आदि खरिदना आसान होगा। सेवाएं सस्ती मिलेंगी और बिचालियो से मुक्ति मिलेगी। एफपीओएस सिस्टम में किसान को उसके उत्पाद के भाव अच्छे मिलते है क्योंकि बारगेनिंग कलेक्टिव होगी।
इस अवसर पर डॉ. सुनीता मिश्रा द्वारा जिले के जैविक खेती करने वाले कृषकों को एफ.पी.ओ. का गठन कर योजना का लाभ लेने हेतु विस्तार से समझाया गया। जिला प्रबंधक जिला उद्योग केन्द्र संदीप उईके द्वारा प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम योजना, मुख्यमंत्री स्व रोजगार योजना, एम.एस.एम.ई. प्रोत्साहन योजना, मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना अंतर्गत कृषकों को आवेदन करने की प्रक्रिया, आवेदनों के निराकरण की प्रक्रिया एवं भौतिक वित्तीय लक्ष्यों की जानकारी दी गई। डीडीएम नाबार्ड मनोज केदारे ने एग्रीकल्चर इन्फ्रास्ट्रक्चर फण्ड के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि फसलोपरांत प्रबंधन परियोजनाएं जैसे ई-विपणन प्लेटफार्म सहित आपूर्ति श्रृंखला सेवाएं, वेयर हाऊस, साइलोस, पेक हाऊस, जांच इकाईयां, छटाई और ग्रेडिंग इकाईयां, शीत श्रृंखला, लोजिस्टिक सुविधाएं, प्राथमिक प्रसंस्करण केन्द्र, पकाई केन्द्र हेतु 2 करोड़ रूपये की सीमा तक ऋण 3 प्रतिशत प्रतिवर्ष की ब्याज छूट पर प्रदाय की सुविधा के बारे में जानकारी दी। प्राथमिक कृषि ऋण समितियों (पी.ए.सी.एस.), विपणन सहकारी समितियां, किसान उत्पादक संगठन, स्व सहायता समूह, किसानों, संयुक्त देयता समूह, बहुउदेशीय सहकारी समितियां, कृषि उद्यमियों और स्टार्टअप हेतु भारत सरकार द्वारा यह सुविधा उपलब्ध कराई गई है।
एनजीओ के निशांत द्वारा संस्था द्वारा किये जा रहे कार्यों एवं कृषकों को दी जाने वाली सुविधाओं के बारे में जिले के कृषकों को जानकारी दी गई। कंसलटेंट भोपाल प्रमोद कुमार गुप्ता द्वारा एफ.पी.ओ. गठन की प्रक्रिया किन-किन दस्तावेजो की आवश्यकता एवं कंपनी एक्ट के अंतर्गत पंजीयन की प्रक्रिया को कृषकों को समझाया गया। कंसलटेंट भोपाल श्री साजी जोन द्वारा एफ.पी.ओ. के माध्यम से कृषि के क्षेत्र में संभावनाओं एवं भविष्य की रणनीति के बारे में कृषकों को विस्तार से जानकारी दी। सेमीनार में जिले के प्रगतिशील कृषक कृषि, उद्यानिकी विभाग के अधिकारी एवं जिला लीड बैंक के प्रतिनिधि सहित उपस्थित रहे।

Post a Comment

0 Comments