पुलिस के दबाव में 24 घंटे के अंदर अपह्त ट्रक मालिक को बदमाशों ने छोड़ा, एक सहआरोपी गिरफ्तार

गादेर घाटी पर हुआ था भिंड निवासी ट्रक मालिक का अपहरण, 18 लाख फिरौती की थी मांग


CLICK -

गुना। (प्रदेश केसरी) जिले के धरनावदा थानांतर्गत हुए ट्रक मालिक के अपहरण के मामले में 24 घंटे के अंदर ही अपह्त व्यक्ति जंगल के रास्ते पुलिस के समक्ष पहुंच गया। इस मामले को पुलिस अपनी घेराबंदी और दबाव का नतीजा बता रही है। अपहरण के इस मामले में पुलिस ने अपहरणकर्ताओं को खाने-पीने का सामान उपलब्ध कराने वाले सह आरोपी को पकड़ा है। पुलिस का शक ट्रक ड्रायवर एवं स्थानीय कुछ लोगों पर है। आरोपियों द्वारा ट्रक मालिक का 17-18 दिसंबर की मध्यरात्रि में गादेर के पास से अपहरण किया था। आरोपियों द्वारा अपहृत ट्रक चालक को छोडऩे के लिए परिजनों से 18 लाख रुपऐ फिरौती की मांग की जा रही थी।
प्राप्त जानकारी के अनुसार 19 दिसंबर को पुलिस को गादेर गुफा मंदिर के सामने स्थित वाहन पार्किंग पर एक ट्रक लावारिस अवस्था में खड़ा मिला थाा। ट्रक की बॉडी पर अंकित मोबाइल नंबरो पर संपर्क करने पर पता चला कि उक्त ट्रक बरेली उप्र से प्लायबोर्ड के रॉ-मटैरियल के साथ उल्लासनगर मुंबई के लिए भिण्ड निवासी ट्रक मालिक के साथ रवाना किया गया था। जिसके संबंध में ट्रक मालिक के परिजनों द्वारा बताया जा रहा है कि ट्रक मालिक का अपहरण हो गया है, और उन्हें छोडऩे के लिये 18 लाख रुपए की फिरौती ट्रक मालिक के ही मोबाईल नंबर से ही मांगी जा रही है। पुलिस की जांच में पता चला कि परिजनों के नंबर पर फिरौती के लिए आए फोन का लोकेशन गुना तरफ के गांव किशनगढ़ की है। साथ ही परिजनों ने बताया कि अपहृत ट्रक ड्रायवर 17 दिसंबर की शाम 7 बजे अपने उक्त ट्रक के सेकेण्ड ड्रायवर राजू तोमर के साथ लेकर मुंबई के लिए निकले थे। जिनका अपहरण हो जाने की जानकारी उन्हें 19 दिसंबर की सुबह फोन पर मिली। इस मामले में पुलिस ने  किशनगढ़ एवं उसके आसपास भटोदिया, विलास एवं बिसोनिया के जंगलों में सर्चिंग अभियान शुरू किया। इसी कड़ी में अपहृत ट्रक चालक के परिजनों ने धरनावदा थाने पहुंचकर रिपोर्ट दर्ज कराई। धरनावदा पुलिस द्वाला आला अधिकारियों के निर्देश पर उक्त इलाकों की सूक्ष्मता के साथ सर्चिंग की गई। इस दौरान मिली जानकारी के आधार पर ग्राम बिसोनिया के कुछ संदेहियों से पूछताछ की की गई। जिसमें संदेही आरोपी के भाई द्वारा अपहरणकर्ताओं को खाने-पीने का सामन जंगल में उपलब्ध कराना बताया। पुलिस के बढ़ते दबाव के चलते आरोपियों द्वारा अपहृत ट्रक चालक को अपने चंगुल से छोड़ दिया। जो जंगल में चलता हुआ गत् रात्रि में पुलिस को सकुशल मिल गया है। वहीं ने संदेही आरोपी के सह आरोपी भाई को गिरफ्तार किया है। पुलिस की शुरूआत जांच में उक्त मामले में भिण्ड निवासी ड्रायवर एवं स्थानीय स्तर पर ग्राम बिसोनिया निवासी एक युवक की भूमिका मिली है। जिनकी गिरफ्तारी के प्रयास पुलिस कर रही है। इस मामले में टीआई विपेन्द्र सिंह चौहान, गोपाल चौबे, मसीह खान, महेन्द्र सिंह चौहान, दीपक त्रिपाठी, दीपक तोमर, मनोज शर्मा, अमित तिवारी, विकास भार्गव, राकेश गुर्जर, सतेन्द्र गुर्जर एवं सायबर सैल व सीसीटीव्ही कंट्रोलरूम की टीम की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

Post a Comment

0 Comments