सहरिया आदिवासियों की 26 बेटियां उड़ान भरने कर रही हैं तैयारियां

निरीक्षण करने पहुंचे मंत्री सिसौदिया बोले, प्रशिक्षण में राशि की कमी नहीं आने देंगे


CLICK -

गुना। (प्रदेश केसरी) विशेष पिछड़ी जनजाति सहरिया आदिवासियों की 26 बेटियां उड़ान भरने कर रही हैं तैयारियां। इनका संबल बना है जिला प्रशासन। गरीब और विकास की मुख्य धारा जुडऩे से पीछे छूट रही सहरिया आदिवासियों के आर्थिक एवं सामाजिक उत्थान के लिए जिला प्रशासन कलेक्टर कुमार पुरूषोत्तम के मार्गदर्शन में 12वीं और उससे ऊपर की शिक्षित सहरिया समाज की बेटियों को शासकीय सेवाओं की प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल कराने के उद्देश्य  से उड़ान अभियान प्रारंभ किया गया है। अभियान अंतर्गत पचौरा, रवी, भीमरामपुर, नर्मदा, लोडेरा, कुशेपुर, भिंडरा, उत्नारगर, मंगरोड़ा, सामरसिंगा, आनापुर, लालोनी, बमोरी और चितोड़ा ग्राम की सहरिया बस्ती, (सहराना) की उक्त 26 बेटियां स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान में आदिम जाति कल्याण विभाग द्वारा के माध्यम से ग्रामीण आजीविका मिशन के माध्यम से प्रशिक्षण दिलाया जा रहा है ताकि वे पंख फैलाएं और मुक्त आकाश में उड़ान भरकर अपना, अपने परिवार एवं अपने समाज को और बेहतर तरीके से संवारें। जिला प्रशासन की इस पहल और नवाचार से रूबरू होने और प्रशिक्षार्थी बेटियों का हौसला बढ़ाने आज पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेन्द्र सिंह सिसौदिया पहुंचे।
इस मौके पर उन्होंने प्रशिक्षणार्थियों एवं प्रशिक्षकों से सीधा संवाद किया। प्रशिक्षणार्थी बेटियों से कहा कि वे प्रशिक्षण उपरांत अपने समाज के उत्थान के लिए भी कार्य करें। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि सहरिया बेटियों-बेटों के प्रशिक्षण के लिए धन की कमी नही आने देंगे। उन्होंने कहा कि ऐसा ही प्रशिक्षण सहरिया आदिवासी पुरूषों के लिए भी आयोजित किया जाएं। इस मौके पर कलेक्टर कुमार पुरूषोत्तम ने बताया कि सहरिया आदिवासियों को शासन की शत-प्रतिशत योजनाओं से लाभान्वित करने के उद्देश्य से बमौरी क्षेत्रांतर्गत 2020 में सर्वे कराया गया था। उक्त  सर्वे में यह सामने आया था कि उनमें ललक है और उनका झुकाव देखकर यह निर्णय लिया गया है कि इन्हें  प्रशिक्षण देकर इनके भविष्य  को संवारा जा सकता है। इसी क्रम में सर्वप्रथम 26 सहरिया आदिवासियों की बेटियों को 45-50 दिन का नि:शुल्क आवासीय प्रशिक्षण दिलाने तथा पुलिस की निकलने वाली भर्ती में सफल कराने का प्रयास है। इस अवसर पर महिला बाल विकास विभाग द्वारा प्रशिक्षणार्थियों को किताबें, ट्रैक सूट, जूते प्रदान किए गए तथा आवश्यकताएं जानी। इस मौके पर एसपी राजेश कुमार सिंह, एलडीएम  संजय कोटिया, डीएस जादौन, राजेन्द्र  जाटव, आरबी गोयल, विनीत गुप्ता, प्रशिक्षक एवं सहरिया आदिवासियों की 26 प्रशिक्षार्थी बेटियां मौजूद रहीं।

Post a Comment

0 Comments