बगैर तराई के बनाए जा रहें सीवर लाइन के सीमेंट चैंबर, सड़कों की मरम्मत के नाम पर भी सिर्फ खानापूर्ति

पूर्व पार्षद ने कलेक्टर से की कंपनी की मनमानी की शिकायत



CLICK -

गुना। (प्रदेश केसरी) सीवर लाईन सहित अन्य विकास कार्यों के नाम पर खोदी जा रही शहर की सड़कों, उनकी मरम्मत और चल रहे निर्माण कार्यों में लगातार लापरवाही बरती जा रही है। कंपनी द्वारा यह लापरवाही भविष्य में शहरवासियों के लिए परेशानी का सबब बनेगी। कंपनी ने पहले तो शहरभर में बिना तकनीकी अमले की देखरेख में वॉटरलेवल मिलाए बिना सीवर लाईन के लिए पाईप डाल दिए। अब इसके लिए बनाए गए चैंबरों की एक भी दिन तराई नहीं होने के कारण वह बनने से पहले ही क्षतिग्रस्त होने लगे हैं। ऐसी ही कुछ शिकायत वार्ड क्रमांक 3 के पूर्व पार्षद वीरेन्द्र शर्मा ने मंगलवार को कलेक्टर को आवेदन देकर की है। श्री शर्मा के अनुसार वार्ड क्रमांक 3 सहित शहरभर में खुदाई के बाद सीवर पाईप  डालने के बाद जो चैंबर बनाए गए हैं। उनमें बनाए जाने के बाद एक भी दिन पानी की तराई नहीं की गई है। जबकि सीमेंट से काम होने के बाद  सीमेंट एक सप्ताह तक तराई अति आवश्यक है। बिना पानी की तराई के संपूर्ण कार्य क्षतिग्रस्त होना स्वभाविक है। आखिर इसकी जिम्मेदारी कौन लेगा ? आवेदन के माध्यम से शिकायत की गई कि उक्त कंपनी द्वारा समूचे शहर में इसी तरह का घटिया निर्माण कराकर जनमानस के टैक्स का दुरूपयोग किया जा रहा है। वहीं दूसरी ओर निर्माण कार्य स्थल का निरीक्षण करने कोई तकनीकी अमला भी मौजूद नहीं रहता है। इसके अलावा खुदाई के बाद मरम्मत के बाद औपचारिकता की जा रही है। वहीं खुदाई के बाद पड़ी माटी एवं पत्थरों को भी नहीं हटाया गया है, जिसके चलते आए दिन दुर्घटनाएं हो रही हैं। आवेदन में पूर्व पार्षद ने निर्माण कार्य की जांच कराकर संबंधित कंपनी पर कार्रवाई की मांग की है।

Post a Comment

0 Comments